मध्य प्रदेश फसल विविधीकरण के लिए प्रोत्साहन योजना 2022

मध्य प्रदेश फसल विविधीकरण के लिए प्रोत्साहन योजना 2022 

मध्य प्रदेश फसल विविधीकरण के लिए प्रोत्साहन योजना 2022 | MP फसल विविधीकरण Yojaan 2022 | प्रोत्साहन योजना | Fasal विविधीकरण क्या है | madhya Pradesh फसल विविधीकरण प्रोत्साहन yojana के उद्देश्य एवं लाभ

भारत – में बड़े पैमाने पर kirshi की जाती है। यहां हजारों सालों से विभिन्न faslo की खेती की जाती है। देश की independence के बाद मुख्यता खाद्य व नकदी faslo पर जोर दिया गया। 1960 के दशक में bharat की बढ़ती हुई जनसंख्या के bharan posan के लिए हमें बहुत से खाद्यान्नों का aayat करना पड़ा था इसलिए sarkar द्वारा हरित क्रांति को अपनाया गया।

Harit karanti की सफलता में आधुनिक machine, रसायनिक खादो ETC का बड़े पैमाने पर paryog किया गया था जिससे bhumi की उर्वरा शक्ति को धीरे-धीरे kafi नुकसान होने लगा। 1990 के dasak के बाद देश में तीन fasal की मुख्यता बड़े पैमाने पर Kheti की जाने लगी इनमें dhaan, gehu एवं ganna शामिल हैं। इन fasal को उगाने के लिए बड़ी मात्रा में rasaynik उर्वरक एवं पानी की necessary होती है इसलिए देश में water संकट एवं bhumi के स्वास्थ्य से संबंधित समस्याएं खड़ी होने लगी। Kisano द्वारा desh में फसल विविधीकरण को एकदम से ही भुला दिया गया था।

Madhya Pradesh government द्वारा भूमि की उर्वरा शक्ति को बढ़ाने के लिए Madhya Pradesh फसल विविधीकरण प्रोत्साहन योजना 2022 लागू करने का faisla किया गया है। MP फसल विविधीकरण के लिए प्रोत्साहन yojana से मध्य प्रदेश में खेती- बाड़ी में Amulchul परिवर्तन होंगे। मध्य प्रदेश फसल vividhikaran प्रोत्साहन yojana 2022 की जानकारी जैसे- एमपी प्रोत्साहन योजना क्या है। यह yojana कैसे कार्य करेगी। Madhya Pradesh फसल विविधीकरण प्रोत्साहन योजना के लाभ एवं Udeshiye क्या होंगे, आदि की जानकारी के लिए कृपया इस मध्य प्रदेश फसल विविधीकरण प्रोत्साहन yojana 2022 को अंत तक अवश्य पढ़ें।

Join telegram sarkari yojana, sarkari job pmcmyojana.in

Madhya Pradesh Fasal विविधीकरण के लिए ‘प्रोत्साहन योजना’ 2022

Madhya Pradesh के CM श्रीमान शिवराज सिंह चौहान द्वारा कैबिनेट की bethak में भूमि की quality सुधारने के लिए मध्य प्रदेश फसल vividhikaran के लिए प्रोत्साहन yojana 2022 लागू करने का fesla लिया गया है। इस फैसले को MP में Kheti में बड़े changes के रूप में देखा जा रहा है। अब Sarkar fasal विविधीकरण (crop Diversitification) पर focus करेगी।

Baithak में मुख्यमंत्री जी ने कहा कि gehu एवं dhaan के उत्पादन में वृद्धि, MP (MSP) पर लागत Kharch में वृद्धि हो रही है fasal के विविधीकरण न होने से environment को भी नुकसान हो रहा है। इसी problem से निपटने के लिए mp फसल विविधीकरण के लिए प्रोत्साहन योजना लागू की है । प्रोत्साहन yojana के माध्यम से gehu एवं धान के स्थान पर बोई जाने वाली गैर MP की fasal की खेती को बढ़ावा दिया जाएगा इससे केमिकल fertilizer पर निर्भरता घटेगी।

संक्षेप में प्रोत्साहन योजना – incentive yojana

Yojana Madhya Pradesh फसल विविधीकरण के लिए प्रोत्साहन योजना 2022उद्देश्य fasal chakra को अपनाना एवं गैर MSP fasal को बढ़ावा देना लाभ bhumi उर्वरा power बढ़ेगी एवं farmers की आय में वृद्धि होगी साल 2022 starting madhya Pradesh सरकार द्वारा

Madhya Pradesh Fasal विविधीकरण प्रोत्साहन योजना 2022 कैसे करेगी कार्य-

Madhya Pradesh में धान एवं gehu की kheti पर किसान ज्यादा जोर दे रहे हैं। इससे भूमि की quality प्रभावित हो रही है। धान एवं gehu की kheti के लिए वह jamkar रसायनिक उर्वरकों का paryog करते हैं जिससे mitti की उर्वरा शक्ति नष्ट होती है। प्रोत्साहन yojana के माध्यम से किसानों को फसल विविधीकरण के mehtv एवं features को बताया जाएगा एवं उन्हें धान तथा gehu को छोड़कर अन्य fasal को उगाने के लिए फसल incentive दिया जाएगा। वह इनके स्थान पर makka-gehu , makka-mung-gehu, gehu-sarso, Arhar-gehu-munh, arhar-gehu , bazar इत्यादि फसल चक्र अपना सकते हैं।

MP Fasal विविधीकरण प्रोत्साहन yojana के लिए सरकारी मदद-

MP Fasal विविधीकरण incentive Yojana को सफल बनाने के लिए sarkar की तरफ से madhya Pradesh प्राकृतिक कृषि vikas board का गठन किया जाएगा। इस Board में 17 सदस्य शामिल होंगे। इस vikas board का कार्य किसानों को प्राकृतिक kheti के लिए उत्साहित करना, उन्हें help देना, वित्तीय सहायता प्रदान करना है। इस board की nigrani के लिए mukhe mantri जी की अध्यक्षता में उच्च nikay एवं मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक task force को बनाया जाएगा। Board के राज्य Pariyojana अधिकारी अपर मुख्य sachiv होंगे, किसान kalyan कार्यकारी संचालक आदि भी इस board में शामिल होंगे।

फसल विविधीकरण-

Dhaan- Gehu के पारंपरिक Kheti के लगातार करने तथा उनमे बड़ी मात्रा में रसायनिक खादों के Paryog से भूमि की उर्वरा शक्ति खराब हो रही है। रसायनिक खादों के प्रयोग से mitti में पाए जाने वाले सूक्ष्म जीव जो fasal के लिए beneficial होते हैं, भी नष्ट होते जा रहे हैं, तथा इन fasal के खाद्यान्नों को khakar पशु, मनुष्य भी different Types की बीमारियों से ग्रसित हो रहे हैं। धान – gehu की पराली जलाने से environment नुकसान भी होता है। इन सभी Problems से निपटने के लिए fasal चक्र अथवा फसल विविधीकरण को APnana परम आवश्यक है। fasal chakr में fasal को बदल- बदल कर boya जाता है जैसे- धान- gehu के स्थान पर एक साथ makka-gehu, आलू-sarso, गेहूं-सरसों, अरहर-गेहूं को ugaya जाता है। Fasal चक्र अपनाने से bhumi की उर्वरा power बढ़ जाती है। उस में नाइट्रोजन,फास्फोरस एवं potassium की मात्रा भी बढ़ती है तथा kisan भी एक साथ कई fasal उगा कर कर अधिक अनाज का उत्पादन कर सकते हैं।

Madhya Pradesh fasal विविधीकरण प्रोत्साहन योजना 2022 का उद्देश्य-

Rajye की बढ़ती हुई जनसंख्या की खाद्य Aapurti को पूरा करने के लिए kirshi में रासायनिक urvako का अंधाधुंध प्रयोग किया गया है। रासायनिक fertilizer के प्रयोग से खाद्यान्न utpadan तो बढा है लेकिन उसके quality भी खराब हुई है। Environment नुकसान की दृष्टि से mitti में मौजूद पोषक तत्व नष्ट होना, usme उपस्थित सूक्ष्मजीव आदि का nast होना, भूमि क्षरण होना, lavanta का बढ़ना, water pollution होना आदि शामिल हैं। Madhya Pradesh sarkar द्वारा शुरू की गई मध्य प्रदेश फसल विविधीकरण प्रोत्साहन yojana का उद्देश्य भूमि में rasainik खादों के प्रयोग को कम करना, fasal chakr अपनाना,.गैर MSP fasal को अपनाना एवं nature की खेती को बढ़ावा देना है।

Madhya Pradesh fasal विविधीकरण प्रोत्साहन योजना 2022 के लाभ-

Madhya Pradesh sarkar द्वारा राज्य में कृषि में नए परिवर्तन लाने के लिए एवं nature खेती को बढ़ावा देने तथा फसल विविधीकरण को अपनाने के लिए Madhya Pradesh फसल विविधीकरण के लिए प्रोत्साहन yojana 2022 लागू की है। प्रोत्साहन Yojana 2022 के लाभ निम्नलिखित हैं-

  • Madhya Pradesh fasal विविधीकरण के लिए प्रोत्साहन योजना 2022 के safal होने से रसायनिक उर्वरकों पर nirbharta कम होगी जिससे mitti की गुणवत्ता बनी रहेगी एवं environment संरक्षण भी होगा।
  • Bhumi में रसायनिक खादों के प्रयोग से water pollution बढ़ता है तथा मिट्टी में lavanta की मात्रा भी बढ़ जाती है इससे भूमि का health भी खराब हो जाता है लेकिन protsahan yojana के माध्यम से भूमि की उर्वरा shakti बढ़ेगी एवं लवणता भी कम होगी।
  • Fasal विविधीकरण प्रोत्साहन yojana के माध्यम से गैर एमएसपी फसलों के Utpadan से कृषि लागत मूल्य घटेगा, टिकाऊ खेती संभव होगी, तथा अन्य fasal जैसे दलहन- tilhan के अधिक utpadan से इनके aayat पर निर्भरता कम होगी।
  • Madhya Pradesh fasal विविधीकरण प्रोत्साहन योजना के विशेषता यह भी है कि kisan अब एक साथ कई फसलें उगा कर अधिक utpadan कर सकेंगे तथा प्राकृतिक खेती करने से रसायनिक खादों के पर nirbharta कम होगी। जिससे किसानों को aarthik बचत भी होगी।
  • Madhya Pradesh fasal विविधीकरण के लिए प्रोत्साहन yojana 2022 में fasal chakra अपनाने से mitti में पोषक तत्व, फास्फोरस, Nitrogen तथा जैविक कीटों को badhava मिलेगा एवं कम sichai वाली fasal जैसे बाजरा आदि को बढ़ावा देने से जल sankat से भी छुटकारा प्राप्त होगा।
  • Rajye ke nagarik रसायन युक्त खाद्य पदार्थ खाकर अपने स्वास्थ्य पर गंभीर negative प्रभाव डाल रहे हैं । कैंसर जैसे गंभीर रोग हो रहे हैं । Parkarti kheti इन सब बीमारियों से छुटकारा दिलाने में सहायता करेगी।
  • MP fasal विविधीकरण प्रोत्साहन yojana अपनाने से छोटी जोत वाले Kisan भी एक साथ कई fasal करके उत्पादन बढ़ाकर आर्थिक benefit कमा सकते हैं।

Madhya Pradesh विविधीकरणके लिए प्रोत्साहन yojana 2022 के safal क्रियान्वयन होने से rajye में बढ़ती हुई Kirshi लागत, रसायनिक khado पर nirbharta मे कमी, जल की कमी आदि को दूर किया जा सकता है। प्रोत्साहन yojana के माध्यम से भूमि की quality सुधरेगी एवं kisan की आय भी बढ़ाने में मदद मिलेगी। अतः MP fasal विविधीकरण प्रोत्साहन yojana का सही से क्रियान्वयन हो तो यह kirshi क्षेत्र में व्यापक बदलाव की वाहक बनेगी।

FAQ- प्रोत्साहन योजना

प्रश्न- madhya Pradesh फसल विविधीकरण के लिए प्रोत्साहन yojana 2022 क्या है?

उत्तर- madhya Pradesh sarkar द्वारा गैर एमएसपी फसलों को बढ़ावा देना एवं natural kheti कराने के लिए यह योजना शुरू की गई है fasal विविधीकरण से भूमि की quality में सुधार होगा।

प्रश्न- MP Fasal विविधीकरण प्रोत्साहन yojana का उद्देश्य क्या है?

उत्तर- राज्य में natural kheti को बढ़ावा देने फसल चक्र को अपनाने एवं Bhumi की उर्वरता को बनाए रखने के udeshiye से प्रोत्साहन yojana शुरू की गई है।

प्रश्न -एमपी फसल विविधीकरण प्रोत्साहन योजना के लाभ क्या है?

उत्तर-इस yojana के माध्यम से mitti के स्वास्थ्य में सुधार होगा, छोटी जोत वाले kisan कई फसलों को उगाकर aarthik लाभ कमा सकते हैं, भूमि में lavanta कम होगी एवं पर्यावरण हानि भी कम होगी आदि।

प्रश्न- fasal विविधीकरण क्या होता है

उत्तर- पारंपरिक kheti के स्थान पर फसलों को बदल- बदल कर करने को ही fasal chakra या फसल विविधीकरण कहते हैं।

प्रश्न- madhya Pradesh fasal विविधीकरण के लिए प्रोत्साहन योजना में कौन-कौन सी Fasal को प्रोत्साहन दिया जाएगा

उत्तर- इस yojana के माध्यम से dhann एवं gehu के स्थान पर गैर MSP fasal तथा arhar, mung, bazra, jov आदि को बढ़ावा दिया जाएगा।

निष्कर्ष।

उम्मीद करते हैं हमारे द्वारा दी गई जानकारी मध्य प्रदेश फसल विविधीकरण के लिए प्रोत्साहन योजना 2022 आपको पसंद आई होगी अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो इसको ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और हमें कमेंट बॉक्स में बताएं आपको यह जानकारी कैसी लगी तथा इसके बारे में अधिक जानने के लिए आप सरकार द्वारा चलाई गई आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं। 

यह भी पढ़े। 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*